150+ Words Essay on Good Manners in Hindi for Class 5,6,7,8,9 and 10

Good Manners

परिचय

अच्छे संस्कार हमारी सभ्यता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। हम एक आदमी को उसके शिष्टाचार से जानते हैं। समाज में हमारे आचरण के लिए शिष्टाचार महत्वपूर्ण हैं।

इसलिए, हम शिष्टाचार सीखने पर बहुत अधिक जोर देते हैं। माता-पिता अपने बच्चों को शिष्टाचार सिखाना चाहते हैं। शिक्षक अपने विद्यार्थियों को शिष्टाचार सिखाना चाहते हैं।

गुरु अपने शिष्यों को शिष्टाचार सिखाना चाहते हैं। क्योंकि शिष्टाचार हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

उपयोगिता

शिष्टाचार बहुत उपयोगी है। शिष्टाचार हमें सज्जन बनाता है। हम सज्जन तभी कहलाते हैं जब हम अच्छे आचरण करते हैं। अच्छे संस्कार हमारे लिए दोस्त बनाते हैं। क्योंकि लोग दोस्ती करना पसंद करते हैं
अच्छे संस्कार वाले लोगों के साथ। अच्छे संस्कार हमारे शत्रुओं को हमारा मित्र बना सकते हैं। लेकिन बुरा व्यवहार हमारे दोस्तों को हमारे दुश्मन जरूर बना देगा। इसलिए हमें अपने शिष्टाचार के बारे में बहुत विशेष होना चाहिए।

अच्छे शिष्टाचार के मूल सिद्धांत

कुछ मूलभूत सिद्धांत हैं जिन पर हमारे सभी शिष्टाचार आधारित होने चाहिए। वे इस प्रकार हैं। हमें दूसरों के मन को ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए। हमें दूसरों की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहिए।

जब हम दूसरों के साथ व्यवहार करते हैं तो हमें घमंड, घमंड, भावना, क्रोध और आवाज की कठोरता से बचना चाहिए। हमारी बात हमेशा सीधी और मीठी होनी चाहिए। हमें दूसरों को धैर्यपूर्वक सुनना चाहिए। हमें अपने बारे में कम बोलना चाहिए। हमारा रवैया सहानुभूतिपूर्ण होना चाहिए।

हमें प्रशंसा करना सीखना चाहिए। अन्य। हमें व्यवहार के रूपों जैसे ‘कृपया’, ‘कृपा’, ‘धन्यवाद’, ‘क्षमा करें’, ‘नहीं, धन्यवाद’ आदि का निरीक्षण करना चाहिए, जब वे देय हों। हमें अपने बड़ों और वरिष्ठों का सम्मान करना चाहिए। हमें अपने युवाओं के प्रति प्रेमपूर्ण और दयालु होना चाहिए।

हमें अपने दृष्टिकोण में ईमानदार होना चाहिए। हमें झूठे वादे नहीं करने चाहिए। हमें कभी धोखा नहीं देना चाहिए। हमें साफ-सुथरा रहना चाहिए। ये कुछ बुनियादी सिद्धांत हैं जिन पर हमारे सभी शिष्टाचार और व्यवहार टिके होने चाहिए।

घर पर शिष्टाचार

हमें अपने माता-पिता और बड़ों की बात माननी चाहिए: हमें बुजुर्गों और कमजोरों की देखभाल करनी चाहिए। हमें अपने युवाओं के प्रति प्रेमपूर्ण और दयालु होना चाहिए।
स्कूल में शिष्टाचार

स्कूल में हमें अपने साथी छात्रों के प्रति दयालु व्यवहार करना चाहिए। हमें कमजोरों को उनके अध्ययन में मदद करनी चाहिए। हमें अपने शिक्षकों का सम्मान करना चाहिए। हमें अपने शिक्षकों को एक दिन में पहली बैठक में शुभकामनाएं देनी चाहिए। हमें अपने अध्ययन के विषय में अच्छा काम करना चाहिए।

क्योंकि किसी विषय के प्रति ईमानदार न होना विषय-शिक्षक का अनादर है। हमें अपने शिक्षकों की आलोचना नहीं करनी चाहिए। हमें विद्यालय में उचित अनुशासन बनाए रखना चाहिए।
एक आम बैठक में शिष्टाचार

जब हम मीटिंग में हों तो हमें ठीक से व्यवहार करना चाहिए। हमें बैठक के अध्यक्ष की बात माननी चाहिए। जब कोई बोल रहा हो तो हमें परेशान या बाधित नहीं करना चाहिए। हमें अंदर की बात नहीं करनी चाहिए
जब हम मीटिंग में होते हैं।

साक्षात्कार में शिष्टाचार

कभी-कभी हमें नौकरी पाने के लिए एक साक्षात्कार में उपस्थित होना पड़ता है। वहां हमें अपने तौर-तरीकों के बारे में बहुत खास होना होगा। जब तक हमें बुलाया न जाए, हमें उनके सामने नहीं जाना चाहिए। हमें वेटिंग बेंच पर तब तक बैठे रहना चाहिए जब तक वे हमें बुला न लें।

हमें उन्हें हमें कॉल करने के लिए नहीं कहना चाहिए। हम उन्हें अपनी सुविधानुसार हमें कॉल करने की अनुमति देंगे। जब हम वेटिंग बेंच पर हों तो हमें उचित अनुशासन और मौन रखना चाहिए। बुलाए जाने के तुरंत बाद हम उनके सामने जाएंगे।

वहां हम उनकी कामना करेंगे। हम तब तक नहीं बैठेंगे जब तक हमें बैठने के लिए नहीं कहा जाएगा। हमें हमेशा इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि वे क्या पूछते और कहते हैं। हमें बंदरों की तरह इधर-उधर नहीं देखना चाहिए।

हम उन्हें कोमल स्वर में उत्तर देंगे। हम उतना ही जवाब देंगे जितना वो चाहते हैं। हमें अपने पैर, हाथ और सिर नहीं हिलाने चाहिए। हमें उनकी मेजों पर हाथ नहीं रखना चाहिए। हमें उनके इतने करीब नहीं खड़ा होना चाहिए। हमें बहुत साफ-सुथरा होना चाहिए।

निष्कर्ष

अच्छे संस्कार हमारे लिए काफी जरूरी हैं। इसलिए, छात्रों को हर जगह अच्छे शिष्टाचार का पालन करने का प्रयास करना चाहिए। इस संबंध में शिक्षकों को उनका मार्गदर्शन करना चाहिए।

Leave a Comment