250+ Words Short Essay on Village Life in Hindi for Class 6,7,8,9 and 10

ग्रामीण जीवन पर निबंध

 परिचय

ग्रामीण जीवन प्राकृतिक और कृत्रिम के बीच सबसे सुखद समझौता है। यह मनुष्य और प्रकृति के बीच एक मजेदार खेल है। अतः ग्राम जीवन मनुष्य के लिए सबसे स्वाभाविक जीवन है।

सामान्य विवरण

गांव प्रकृति के मनमोहक दृश्यों का मनोरम दृश्य है। बदलते मौसम के दृश्यों का ग्रामीण जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। यह मानव मन में एक दिव्य स्पर्श लाता है। अत: ग्राम जीवन दिव्य सौन्दर्य से परिपूर्ण है। गाँव का जीवन सादा और सरल होता है। ग्रामीण जीवन की आवश्यकताओं से संतुष्ट हैं। उन्हें विलासिता का कोई शौक नहीं है। वे कपड़े के कुछ टुकड़ों के साथ प्रबंधन करते हैं।

वे सादा खाना पसंद करते हैं। वे अपने सामाजिक कर्तव्यों का यथासंभव सरलतम तरीके से निर्वहन करते हैं। ग्रामीण ज्यादातर फील्ड वर्कर होते हैं। वे खेती में लग जाते हैं। उनमें से कुछ कारीगर हैं। ये सभी अपनी-अपनी जाति के व्यापार का पालन करते हैं। टी

अरे जीवन की विभिन्न कॉलिंगों को ले लो। कुछ पुजारी हैं। कुछ दूधवाले हैं। कुछ तेल व्यवसायी हैं। कुछ मछुआरे हैं। कुछ धोबी हैं। कुछ नाई हैं।

कुछ ड्रमर वगैरह हैं। वे अमीर और अमीर नहीं हैं। लेकिन उनके पास जीवन की न्यूनतम आवश्यकताओं के लिए पर्याप्त है। गांव के लोग मेलों और त्योहारों में भाग लेते हैं। उत्सव काफी सादे और सरल हैं। वे लोक नृत्य और ओपन एयर ड्रामा में भाग लेते हैं। लेकिन उनमें से बुजुर्ग समारोह में शामिल नहीं होते हैं।

वे अपने घर और फसल से खुश हैं। गांव के लोग सादा जीवन और उच्च विचार का जीवन जीते हैं। वे उच्च सोचते हैं; क्योंकि वे भगवान और धर्म के संदर्भ में सोचते हैं। गांव का मंदिर उनके सामाजिक और नैतिक रखरखाव को बनाए रखता है। ग्राम देवता को श्रद्धा और विश्वास की दृष्टि से देखा जाता है। जाति-प्रथाओं का कड़ाई से पालन किया जाता है।

आधुनिक सुविधाएं

आज का ग्रामीण जीवन आधुनिक सुविधाओं से रहित नहीं है। ग्रामीणों के पास प्राथमिक विद्यालय, डाकघर, जनता की सुविधा

पथ, स्वास्थ्य केंद्र और पहिएदार यातायात। टूरिंग सिनेमा और ट्रांजिस्टर की कमी ग्रामीणों के लिए नहीं है। साइकिलें अब उनके साथ बहुत आम हैं।

जंग और उपाय

हम जानते हैं कि गांव के लोगों की जिंदगी में बहुत कम जरूरतें होती हैं। वे अपने आस-पास प्रकृति द्वारा संपन्न चीजों से संतुष्ट हैं। इसलिए, वे कोई प्रगति करना पसंद नहीं करते हैं। नतीजतन, गांव का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। अज्ञानता और अंध विश्वासों की बुराइयों ने पैठ बना ली है। अशिक्षा और महामारियाँ व्याप्त हैं।

अब यह हमारा कर्तव्य है कि हम इस स्थिति का इलाज खोजें। जन शिक्षा और सार्वजनिक स्वास्थ्य ग्रामीण जीवन के सुधार के लिए प्राथमिक शर्तें हैं।

निष्कर्ष

कहते हैं देश की जिंदगी प्यारी होती है। यह सच है इसमें कोई शक नहीं। बड़े-बड़े कवियों ने इसका गुणगान किया है। भविष्यवक्ताओं को भी ग्रामीण जीवन के लिए सबसे बड़ी प्रशंसा है। महान विचारकों और दार्शनिकों ने अपना अमूल्य जीवन ग्रामीण इलाकों में बिताया है। इसलिए, प्रत्येक आत्मीय व्यक्ति द्वारा, सभी युगों में, ग्रामीण जीवन को अत्यधिक पोषित किया जाता है।

Leave a Comment